क्या आप जानते कुतुब मीनार की लम्बाई कितनी हैं | Kutub Minar Ki Lambai Kitni Hai

क्या आप जानते कुतुब मीनार की लम्बाई कितनी हैं | Kutub Minar Ki Lambai Kitni Hai

Share to social

विश्व धरोहर में  शामिल की गई कुतुब मीनार के बारे में अक्सर लोग गूगल पर सर्च करते रहते हैं कि कुतुब मीनार की लम्बाई ? Kutub Minar Ki Lambai Kitnihai कुतुब मीनार को किसने बनाया ? तथा और भी अन्य कई सवाल है जो अक्सर गूगल पर सर्च करते रहते हैं तो तो इस लेख के माध्यम से आपको कुतुब मीनार के बारे में संपूर्ण जानकारी मिलने वाली है

कुतुब मीनार की लंबाई कितनी है ?

 

दिल्ली में स्थित कुतुब मीनार एक बहुत ही सुंदर दर्शनीय स्थल है जो कि दिल्ली के महरौली में स्थित है विश्व की सबसे ऊंची मीनार है जो की ईट से बनी हुई है इसका इसकी कुल 379  सीढियाँ हैं

कुतुब मीनार की लम्बाई 72.5 मीटर है और यदि इसकी फ़ीट में लंबाई की बात करें तो 238 फीट लंबाई है

 

कुतुब मीनार का निर्माण किसने करवाया था

 

निर्माण कार्य दिल्ली के प्रथम मुस्लिम शासक कुतुबुद्दीन ऐबक ने शुरू करवाया था उसके बाद में इसकी तीसरी मंजिल इल्तुतमिश ने भी बनवाई तथा चौथी और पांचवी मंजिल फिरोजशाह तुगलक ने बनवाई

इस प्रकार से कुतुब मीनार के निर्माण में तीन मुग़ल शासकों का योगदान है जिसमें सबसे प्रथम कुतुबुद्दीन ऐबक है जिन्होंने इसका निर्माण कार्य शुरू किया और उसके बाद में दूसरे शासक आते हैं इल्तुतमिश इल्तुतमिश ने इसकी तीसरी मंजिल का निर्माण करवाया इसके बाद में फिरोज़ शाह तुगलक ने इसकी चौथी और पांचवी मंजिल का निर्माण करवाया

इस तरह से कुतुबमीनार का निर्माण तीन मुगल शासकों के द्वारा अलग-अलग वर्षों में करवाया गया है जो कि इसका निर्माण 1193 में कुतुबुद्दीन ऐबक के द्वारा शुरू किया गया था और 1368 में फिरोजशाह तुगलक के द्वारा पूर्ण हुआ

कुतुब मीनार में अन्य महत्वपूर्ण स्मारक

कुतुब मीनार के अंदर अन्य महत्वपूर्ण स्मारक की बात करें तो उसमें 1310 में निर्मित एक द्वार है जो भी इस का द्वार है, इसके अलावा इसमें एक अलाइव दरवाजा, तथा इसमें एक उल इस्लाम मस्जिद स्थित है, और इसमें एक अलाउद्दीन खिलजी तथा इमाम जमीन के मकबरे, भी इसमें अंदर स्थित है और अलाई मीनार 7 मीटर ऊंचा लोहे का एक स्तंभ यह सब इस मार्ग के कुतुब मीनार के अंदर स्थित हैं

कुतुब मीनार की वास्तुकला

 

कुतुब मीनार की वास्तुशिल्प की बात करें तो यह अफगानिस्तान के जाम मीनार अनार की वास्तुशिल्प से लिया गया है ।
इसकी तीसरी मंजिल है वह लाल बलुआ पत्थर से बनी है।
क़ुतुब मीनार का चौथी मंजिल संगमरमर के पत्थर से बनी है।
कुतुब मीनार की पांचवी स्तंभ या पांचवी मंजिल संगमरमर और बलुआ पत्थर से बनी है।
कुतुब कुतुब मीनार ऊर्ध्वाधर से लगभग 65 सेंटीमीटर झुका ताकि बारिश का पानी है जो इसके कल को खराब नहीं करें।
वर्तमान समय में कई बड़े-बड़े जो टावर बने हैं उनके लिए प्रेरणा का काम करता है यह दिल्ली का कुतुब मीनार।

 

कुतुब मीनार से संबंधित रोचक तथ्य

 

दुनिया का सबसे ऊंचा ईट से बनाई हुई मीनार ह।
कुतुबमीनार के निर्माण में तीन मुगल शासकों का योगदान ह।
इसमें बनी एक मस्जिद है जिसको कुतुब उल इस्लाम का जाता है।
शीर्ष तक पहुंचने के लिए इस मीनार के अंदर कुल मिलाकर 379 सीढ़ियां है।
16 वीं शताब्दी में इस मीनार को भूकंप से काफी क्षति हुई थी ।
इस इमारत पर१४वी शताब्दी में बिजली गिरने से भी नुकसान हुआ था ।
कुतुब मीनार में घूमने का समय सुबह 7:00 बजे से लेकर शाम को 5:00 बजे तक ह।

यूनेस्को द्वारा 1993 में विश्व धरोहर में शामिल किया गय।
कुतुब मीनार परिसर में हर साल नवंबर और दिसंबर में नवंबर दिसंबर में एक सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित की जाता है जिसे कुतुब महोत्सव कहते है।
3 दिनों तक चलने वाले इस महोत्सव में सांस्कृतिक कार्यक्रम होता ह।
कुतुबमीनार भारतीय सर्वेक्षण विभाग के संरक्षण में आता ह।
कुतुब मीनार एक अरबी भाषा का शब्द है जिसका अर्थ होता है पोल अक्ष।
भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के द्वारा 2019 में टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए नाइट टूरिज्म कंपलेक्स शुरू किया गया था।

कुतुब मीनार से संबंधित महत्वपूर्ण सवाल

FAQ

 

Q.-कुतुब मीनार की लम्बाई ?

Ans.-कुतुब मीनार की लंबाई 72.5 मीटर है

Q.-कुतुब मीनार कहां पर स्थित है

Ans.-कुतुब मीनार दिल्ली में स्थित है

Q.-कुतुबमीनार का व्यास कितना है ?
Ans.-आधार का 14.3 मीट।
Q.-कुतुब मीनार का निर्माण शुरुआत कब हुआ ?

Ans.-कुतुब मीनार का निर्माण 1193 ई में आरम्भ हु।

Q.-कुतुब मीनार की पहली मंजिल किसने बनाई ?

Ans.-कुतुब मीनार की पहली मंजिल कुतुबुद्दीन ऐबक ने बना।

Q.-कुतुबमीनार में कुल कितने मंजिल हैं ?

Ans.-कुतुब मीनार कुल 5 मंजिला ह।

Q.-कुतुब मीनार की कुल कितनी सीढ़ियां हैं ?
कुतुब मीनार की कुल 379 सीढ़ियां है।

 

ये भी जाने

क्या आप जानते हैं एक किलो में कितने ग्राम होते हैं

हिंदी महीनों के नाम

 

 

 

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top
%d bloggers like this: